इस दुनियां में होते हैं नाटक अपार-व्यंग्य कविता


क्यों अपना दिल जलाते हो अपना यार
इस दुनियां में होते हैं नाटक अपार

कभी कहीं कत्ल होगा
कहीं कातिल का सम्मान होगा
चीखने और चिल

Both comments and trackbacks are currently closed.
%d bloggers like this: