अयोध्या में राम मंदिर और राम-हिन्दी कविता (ayodhya mein ram mandir aur ram-hindi poem)


उन्होंने कहा कि
‘तुम अयोध्या के राम मंदिर पर लिखो
उस पर फैसला होने वाला है
जरूर इससे सनसनी फैल जायेगी
तुम्हारी प्रसिद्ध होने भूख भी तभी शांत हो पायेगी।’
मुझे तब अपने घर रखी राम की
तस्वीर दिखाई दी
जिसमें मेरे पूज्य मुस्करा रहे थे
बरबस मैं भी मुस्करा दिया
जैसे इष्ट ने आनंद के झूले में झुला दिया।
मुझे नहीं लगा कि
मेरी कलम इन क्षणो पर अभिव्यक्त हो पायेगी।
मेरे मन में जो हर पल विचरे हैं
उनके प्रति आस्था के बीज
रक्त के कण कण में बिखरे हैं,
अमूर्त रूप से बसे हैं जो आंखों में
तस्वीरों जितने चेहरे भी हैं लाखों में
उनके स्मरण से बढ़ती हुई ताकत
खड़ा कर देती है ज़िदगी के खुशनुमा पलों के सामने
शीतल होती जा रही देह की उंगलियां
ऐसे में कहां आग उगल पायेंगी।
———-

कवि, लेखक एंव संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
यह कविता/आलेख रचना इस ब्लाग ‘हिन्द केसरी पत्रिका’ प्रकाशित है। इसके अन्य कहीं प्रकाशन की अनुमति लेना आवश्यक है।
इस लेखक के अन्य ब्लाग/पत्रिकायें जरूर देखें
1.दीपक भारतदीप की हिन्दी पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अनंत शब्दयोग पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का  चिंतन
4.दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका
5.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान का पत्रिका

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • Anuj singh  On 25/09/2010 at 11:05 पूर्वाह्न

    hello

  • Anuj singh  On 25/09/2010 at 11:06 पूर्वाह्न

    helllo

  • Ashutosh Awasthi  On 26/09/2010 at 1:24 पूर्वाह्न

    Dear,
    I really want ,you have to write about Ram Mandir issue in ayodhya .
    actually i`m in blind support of Ram Mandir…

    Warm Regards,
    Ashutosh Awasthi

  • navin singh  On 30/09/2010 at 8:04 अपराह्न

    i so proud of shri ram
    shri ram is the best best best lord in all the world

    if you have any problem
    then you remember the sri ram

    aftersome time you will look that
    your problem already solved
    then you always believed in god

  • wahid  On 06/10/2010 at 8:47 अपराह्न

    Ram eek awtar they na ki bhagwan ram ko musalman bhi mnte hain par eek maha purush ki roop main na ki bhgwan, bhagwan to sirf eek hai hindu muslim sikh isaee sab ka eek hi malik hai khuda aur sirf khuda, khuda ke sewa koi bhi ibbatat ki layak nahi hai

  • ghanshyamkr  On 23/08/2013 at 9:56 अपराह्न

    ramlala hm aayege mandir wahe banaege

  • shivaRajpoot  On 03/09/2014 at 6:06 अपराह्न

    Jay shri ram

  • sudhir singh  On 03/11/2014 at 10:12 पूर्वाह्न

    ram ke nam par 1990-1991 me jo kuch hua tha uspar mai tipani nahi karana chahata huan,par etana jaroor hai ki sabhi ka man ahat hua tha,mere colony me photapath par mandir ban raha tha ,maine uske lia chanda nahi dia to mujhe kaphir,hindu virodhi kaha gya ,mai puchana chahata huan ki mai sahi huan ya galat mujhe bataye jay ? galat huan to karan bhi bataya jai .

    sudhir singh,rashtriya Sanyojak
    MANZIL GROUP SAHITIK MANCH,KOLKATA

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: