काला या लूट का धन या भ्रष्टाचार-हिन्दी लेख (black money or loot aur curruption-hindi lekh)


भ्रष्टाचार के विरुद्ध अभियान छेड़ने वालों को अपना समय फालतू बहसों में नहीं उलझनी चाहिए। अनेक भारतीयों का विदेशी बैंकों में धन जमा है पर उसे काला कहकर भी सम्मानित नहीं किया जाना चाहिए। किसी भी व्यक्ति के पास धन दो ही प्रकार से आता है-एक कमाकर दूसरा लूटकर। मतलब धन या तो कमाई का होता है या लूट का। काले धन से आशय केवल यह होता है कि उसके लिये कर नहीं चुकाया गया, या जिसे सरकार के समक्ष घोषित नहीं किया जा सकता। यह काला धन ऐसे स्तोत्रों से आ सकता है जो कानून की दृष्टि से बुरे नहीं है, कानून की दृष्टि से बुरे धंधों से भी आया धन काला होता है पर वह लूट का नहीं होता। हम विदेशी बैंकों में जमा जिस धन को काला कह रहे हैं वह लूट का धन ही हो सकता है जिसके स्त्रोत न एक नंबर के हैं न दो नंबर के ।
इस प्रकरण में एक चर्चा करना रोचक लगती है। अभी हाल ही में एक धर्म विशेष की बैंक प्रणाली को अपनाने की बात चल रही थी। इस प्रणाली में बिना ब्याज के धन रखने की सुविधा होती है। कई लोगों ने इसका धार्मिक आधार पर विरोध किया पर लगता है कि वह असली बात समझे ही नहीं। इस प्रणाली के समर्थकों ने तर्क दिया कि चूंकि उस धर्म विशेष के लोग ब्याज को बुरा समझते हैं इसलिये उसका ध्यान रखते हुए उनको बिना ब्याज के बैंकों की तरफ आकर्षित किया जाये ताकि वह विनिवेश कर सकें। संभव है कि उस धर्म विशेष के गरीब और विद्वान लोग इस बात से प्रसन्न हों कि उनके धर्म की मान्यता बढ़ रही है तो भ्रम में हैं। दरअसल जिन विदेशी बैंकों में यह काला धन रखा जाता है उस वह वह ब्याज मिलना तो दूर बल्कि रखने की की फीस लगती है-ऐसा कुछ विशेषज्ञ दावा करते हैं। इसी फीस से बचने के लिये ही उस धर्म विशेष की नज़ीर के आधार पर अगर भारत में बैंक खोले गये तो यकीन मानिए ऐसे लूट के धन रखने वाले उस फीस से भी बच जायेंगे। संभव है कि ऐसे बैंक स्थापित हो गये तो उनको अपने धार्मिक आधार पर अपने यहां के जमाकर्ताओं की जानकारी किसी को न देने की भी छूट मिल जाये और फिर उसे व्यवस्थापक दूसरे धर्म के इस तरह का धन रखने वालों को भी सुविधा देने लगे-यानि विदेशों जैसी सुविधा देश में ही मिल जाये तो कहना ही क्या? अगर उस धर्म के विशेष के लोगों को बिना ब्याज के पैसा रखना है तो वर्तमान राष्ट्रीयकृत बैंकों में कानून बनाकर यह सुविधा दी जा सकती है। मतलब कहीं  न कहीं  इसमें चाल हो सकती है जो कि कथित धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत की आड़ में दी जा रही है।
प्रसंगवश उस धर्म के लोगों की बात भी कर लें। दरअसल उस धर्म के आम लोगों को लंबे समय तक अंग्र्रेजी और हिन्दी की शिक्षा से दूर रखा गया। देश की मुख्यधारा से भी परे रखकर धर्म की अफीम पिलाई गयी। जिसके कारण उस धर्म के लोगों का एक बहुत बड़ा समूह समय के साथ बदलाव का लाभ नहीं उठा पाया। अब समय बदल रहा है। उस धर्म के लोग भी अब असलियत समझ गये हैं। उसके पुरुष और स्त्रियां अब बैंकों में आते जाते देखे जा सकते हैं। जहां तक इस धर्म के शिक्षित तबके का सवाल है तो वह बिना हिचक के बैंकों में आता जाता है। इसी प्रसंग में यह बात भी कहना रोचक लगता है कि इस ब्याज रहित प्रणाली वाले बैंकों की संकल्पना तब जोर मार रही है जब यह डर सताने लगा है कि विदेशी बैंक अब लंबे समय तक साथ नहीं देने वाले। मतलब बात सीधी है कि धर्म आधारित बैंक प्रणाली कथित धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत की बजाय कर्मनिरपेक्षता पर आधारित है जिसमें किसी भी तरह अपना धन मज़बूत रखा जाये कर्म चाहे जैसे भी हों इसे कोई नहीं जान पाये। अगर ब्याज रहित बैंक प्रणाली की बात है तो भारतीय धर्म ग्रंथों में भी ब्याज खाने का विरोध किया गया है पर उसे सांप्रदायिक माना जाता है इसलिये उसके संदेशों पर चर्चा नहंी की जा सकती। पापपूर्ण धन का खेल निराला है जिसकी मात्रा अपने देश के कुछ लोगों के पास अधिक है।
कहने का अभिप्राय यह है कि इस देश में गरीबी, बेकारी और महंगाई का प्रकोप है यह प्रकृति या सामाजिक स्थिति की वजह से नहीं बल्कि राजकीय कुप्रबंधन और आर्थिक लुटेरों की वजह से है। कुछ लोग अपना पैसा छिपाकर रखना चाहते हैं क्योंकि उन्हें अपने कर्म भी छिपाने हैं। वह ब्याज लेना तो दूर रखने के लिये फीस भी देने के लिए तैयार हैं और उनकी चालों को धार्मिक या सामाजिक ढांचे की आड़ में छिपाने की सुविधा नहीं मिलना चाहिये। हम यहां किसी धर्म या उसकी बैंकिंग प्रणाली का विरोध नहंी कर रहे पर यह भी देखना होगा कि कहीं इसकी आड़ में ऐसा प्रयास तो नहीं हो रहा। आखिर इस देश में अनेक लोगों के पास धन नहीं है तो अनेक इसके लिये पूरा दिन संघर्ष करते हुए बिता देते हैं जबकि कुछ लोगों का न धन से पेट भरता है न हवस मिटती है। मगर सच यह भी है कि गरीब वर्ग ही अमीरों का आधार है। उसके खाने, बीमारी, यात्रा तथा सामाजिक कर्मकांडों के निवर्हन से ही लोग अमीर बन रहे हैं। कुछ लोग उनकी मज़बूरी को बेचकर तो कुछ उससे बचकर अमीर बन रहे हैं। अमीर वर्ग के दम पर कोई अमीर नहीं  बन रहा। गरीब के कल्याण के नाम पर जितना पैसा खर्च होता  है वही लुट रहा है। इसके लिये एक नहीं लाखों उदाहरण मिल जायेंगे।
यही कारण है कि नये आर्थिक कार्यक्रम तथा प्रणाली बनाते समय लुटेरों के धन रखने की आदत पर भी ध्यान रखना चाहिए।
वैसे जिस तरह देश में चिंतन और अध्ययन की स्थिति है उसे देखते हुए कोई यह तर्क भी दे सकता है कि किसी धर्म विशेष के आधार पर बने बैंक में यही लूट का धन देश में ही रखा जाये तो क्या बुराई है? आखिर यह पश्चिमी देशों की पकड़ से बाहर तो रहेगा! अमेरिका के पास तो नहीं जायेगा। देश के पैसा देश में ही तो रहेगा फिर इससे धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत का भी निर्वहन हो जायेगा! वैसे आने वाला समय नये प्रकार के विवादों को जन्म देने वाला है। लूट का धन कहें या काला उसकी ताकत कम नहीं है। जिनके पास है उनके चेहरे यहां चमकदार और व्यक्त्तिव इज्जतदार है। वह अपना खेल मज़बूती से खेलेंगे और उसे रोकना आसान नहीं होगा। उनकी तरफ से निरर्थक बहस करने वाले बुत भी खड़े होंगे और उनसे बचना होगा।
इस लेखक के भ्रष्टाचार पर लिखे अन्य लेख पढ़ना चाहें तो सर्च इंजिनों में ‘भ्रष्टाचार पर दीपक भारतदीप’ डालकर पढ़ सकते हैं।
—————

कवि, लेखक एंव संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
यह कविता/आलेख रचना इस ब्लाग ‘हिन्द केसरी पत्रिका’ प्रकाशित है। इसके अन्य कहीं प्रकाशन की अनुमति लेना आवश्यक है।
इस लेखक के अन्य ब्लाग/पत्रिकायें जरूर देखें
1.दीपक भारतदीप की हिन्दी पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अनंत शब्दयोग पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का  चिंतन
4.दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका
5.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान का पत्रिका

८.हिन्दी सरिता पत्रिका

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: